आईटी के क्षेत्र में विश्व पटल पर पहचान बनाएंगे भारद्वाज

गुरूग्राम, 22 फरवरी। आईटी के क्षेत्र में अपनी पहचान बनाने के लिए हिरदेश भारद्वाज ने अब अपना लक्ष्य और बड़ा कर लिया है। उनका लक्ष्य है कि विश्व पटल पर आईटी के क्षेत्र में अपनी पहचान बनाई जाए। इससे उनका और उनके परिवार का नाम रोशन होगा। साथ ही इस पहचान से भारत देश का नाम रोशन भी होगा और भारत देश आईटी के क्षेत्र में विश्व पटल पर जाना जाएगा। इसके लिए भारद्वाज अपने मित्रों के साथ आईटी की नामी कंपनियों के साथ उठ-बैठ रहे हैं। जो कि उनको अपने लक्ष्य की ओर ले जाने वाला मार्ग होगा। यह बात भारद्वाज ने अपने बेव ज्योति इंस्टीट्यूट में वार्तालाप करते हुए कही।

हिरदेश भारद्वाज ने अभी तक अपना अध्ययन करके 3 पुस्तकों को लिखा है और वह इसके अध्ययन से और आईटी के क्षेत्र में प्रयोग करके वह 4 पुस्तक और लिखने जा रहे हैं, लेकिन उनका यह अध्ययन काफी संघर्षशील है। इसके साथ ही उन्होंने इंस्टीट्यूट में अपने इंजीनियरों से बात करते हुए कहा कि वह इस आईटी के क्षेत्र को काफी ऊंचा उठाना चाहते हैं जिससे आने वाली पीढिय़ों के लिए आईटी का क्षेत्र काफी आसान होगा। इस लक्ष्य को पूरा करने के लिए वह पुस्तक के अलावा नित नये प्रयोग में भी लगे हैं, लेकिन हिरदेश भारद्वाज का कहना है कि आईटी के क्षेत्र को कुछ लोग कठिन मानते हैं, लेकिन वह कहते हैं कि जब अध्ययन किया जाए तो मंजिल दूर नहीं होती। इसी लक्ष्य को लेकर हिरदेश भारद्वाज अपनी लगन में लगे हुए हैं। और अपने इंस्टीट्यूट में वह इंजीनियरों को शिक्षा दे रहे हैं ताकि अध्ययन के साथ और प्रयोग के साथ उन्हें और उनके इंजीनियरों को आगे बढऩे का अवसर मिल सके। इसको लेकर अपने इंजीनियरों को भी रास्ता आसान करने के लिए प्रेरणा दे रहे हैं। भारद्वाज का यह भी कहना है कि इस कामयाबी को प्राप्त करने के लिए उनके मित्रों का इसमें अहम योगदान होगा। इस कामयाबी के लिए वह अपने मित्रों को साथ लेकर चल रहे हैं ताकि मंजिल उन्हें पास नजर आए।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Enjoy the tutorial? Please spread the word :)

Follow by Email
Facebook
Facebook
Google+2k
Google+
http://hirdeshbhardwaj.com/2017/02/22/%E0%A4%86%E0%A4%88%E0%A4%9F%E0%A5%80-%E0%A4%95%E0%A5%87-%E0%A4%95%E0%A5%8D%E0%A4%B7%E0%A5%87%E0%A4%A4%E0%A5%8D%E0%A4%B0-%E0%A4%AE%E0%A5%87%E0%A4%82-%E0%A4%B5%E0%A4%BF%E0%A4%B6%E0%A5%8D%E0%A4%B5
YouTube39
YouTube